+91-9893712371

Home » Singapore Tour » एक कदम सिंगापुर की ओर – दूसरा दिन

एक कदम सिंगापुर की ओर – दूसरा दिन

Singapore Flyer
Singapore Flyer

आपने हमारे पहले दिन के भ्रमण या इन लेख को लिखने का उद्देश्य पढ़ा या नहीं। पढ़िए दी गई लिंक पर क्लिक करके।

एक कदम सिंगापुर की ओर – उद्देश्य
एक कदम सिंगापुर की ओर – पहला दिन
अब पहले दिन से आगे 🙂

दूसरे दिन सुबह होटल में हमने नाश्ता किया, होटल के नाश्ते में काफी वैरायटी उपलब्ध थीं, उनमें वेज और नॉनवेज दोनों ही प्रकार के ऑप्शंस थे, साथ ही फल, दूध, जूस, कॉफी आदि कई चीजें उपलब्ध थीं। सुबह 10 बजे हम अपनी बस से नए सफर पर चल दिए।

दूसरे दिन का सबसे पहला पड़ाव हमारा Merlion Park था। Merlion Park को सिंगापुर की शान कहा जा सकता है, वह एक प्रतीक है जिसे हर कोई कैमरे में कैद करना चाहता है और उसके साथ अपना फोटो लेना चाहता है, Merlion एक ऐसी प्रतिमा है जो ऊपर से शेर की है, तथा उसका निचला भाग एक मछली की तरह है इसीलिए इसका नाम दो नामों के मिश्रण Mermaid और Lion से मिलकर बना है। इस पार्क के आस पास का नज़ारा अत्यंत खूबसूरत है, एक तरफ पानी, पानी के दूसरी ओर Marina Bay Sands होटल और Singapore Flyer दिखाई देता है, दूसरी तरफ ऊँची ऊँची इमारतें हैं, बीच में एक ब्रिज बना है जिस पर चलकर हम Merlion की प्रतिमा तक पहुँचते हैं और वहां विभिन्न मुद्राओं में अपनी तस्वीर खिंचवाते हैं।

लगभग 1 घंटे का समय हमने वहाँ बिताया उसके बाद हम अपनी बस में आ गए उसके बाद हमने चीनियों के मंदिर का भ्रमण किया और फिर हम सिंगापुर फ्लायर की तरफ चल दिए।

सिंगापुर फ्लायर एक बहुत बड़े झूले की तरह है, या कहें की झूला ही है, परन्तु यह अन्य झूलों की तरह तेज गति में नहीं चलता, जिस तरह एक ऊँचे झूले में कई सारी पालकी लगी होती हैं जिनमें दो से चार लोग बैठते हैं उसी तरह इसमें में कई कैप्सूल होते हैं जिनमे एक बार में 20 से 25 लोग तक सवार हो सकते हैं और उसके अंदर बैठने के अलावा उसमे घूम भी सकते हैं, बॉक्स पूरा पैक होता है और हर तरफ काँच से बाहर का नज़ारा देखा जा सकता है, और यह एयर कंडिशन्ड रहता है।

सिंगापुर फ्लायर पहुँच कर हमने पहली बार इतने ऊँचे झूले को इतने पास देखा, फिर हम लोग टिकट लेकर इसमें सवार होने चल दिए, यह झूला लगातार चलता रहता है और हमें इसमें चलते हुए ही चढ़ना होता है, गति काम होने के कारण इसमें कोई परेशानी नहीं होती। धीरे धीरे हमारा कैप्सूल ऊपर की तरफ चढ़ने लगा, और धीरे धीरे हमे सिंगापुर का और बेहतर नज़ारा दिखाई देने लगा, वहाँ से हमने पूरा सिंगापुर देखा।

यदि आपने लन्दन आई का नाम सुना हो तो यह लगभग वैसा ही है, लेकिन इसकी ऊंचाई लंदन आई से भी ज्यादा है। लंदन आई की ऊंचाई 135 मीटर है जबकि सिंगापुर फ्लायर की ऊंचाई 165 मीटर है। इसको एक चक्कर लगाने में 30 मिनट लगते हैं और इसमें से आप पूरे सिंगापुर को देख सकते हैं, इसके टिकट की कीमत 33 सिंगापुर डॉलर थी।

फ्लायर में घूमने के बाद हमने उसी के प्रांगण में अपना दिन का भोजन लिया, वहाँ एक भारतीय रेस्टॉरेंट था जिसमें हमें स्वादिष्ट भोजन मिला। उसके बाद हमें वापस अपने होटल जाना था जहाँ से हमारा अगला पड़ाव गार्डन्स बाय द बे था जहां शाम को जाया जाता है, सिंगापुर की एक बहुत ही शानदार जगह जिसके बारे में आपको आगे पढ़ने को मिलेगा।

तो शाम को 5 बजे हमारी टूर गाइड फियोना हमे लेने पहुँच गईं, बस से हम Gardens By the Bay पहुंचे। बाहर से देखने पर ही यह बहुत खूबसूरत दिखाई देता है, यहाँ मानव द्वारा पेड़ों की तरह दिखने वाली कृतियां बनाई गई हैं, जिन पर शाम को लाइट शो आयोजित किया जाता है। एक तरह से देखा जाये तो यहाँ पर 3 आकर्षण हैं, सबसे पहले Flower Dome उसके बाद Cloud Forest और सबसे अंत में लाइट शो।

सबसे पहले जब हम अंदर की तरफ बढ़ते हैं तो हमें शुरुआत में विभिन्न प्रकार के फूलों की प्रजातियों सजे गार्डन Flower Dome को देखने का मौका मिला, यहाँ पूरी दुनिया के विभिन्न खूबसूरत पेड़ पौधे, फूल और फलों के पौधे लगे हैं जिन्हे देखने का मौका आसानी से नहीं मिलता। जितने खूबसूरत ये पेड़ पौधे और फूल हैं उतने ही खूबसूरती से उन्हें सँवारा और संजोया गया है, एक सुखद अनुभूति होती है विभिन्न प्रकार के रंग बिरंगे फूलों को देखकर। यदि आप अच्छे से देखेंगे तो आपको पूरा घूमने में डेढ़ से 2 घंटे लग सकते हैं लेकिन हमारे पास मात्र 1 घंटा ही होता है उसे देखने के लिए क्योंकि उसके बाद हमें Cloud Forest में प्रवेश करना होता है।

जैसे ही हम फ्लॉवर डोम से क्लाउड फॉरेस्ट में प्रवेश करते हैं बहुत ही भव्य झरना हमारा स्वागत करता है, क्लाउड फॉरेस्ट एक पर्वत नुमा बिल्डिंग में बनाया गया है जो काफी ऊँची है और उस पर पूर्ण रूप से हरियाली है जैसे की किसी पर्वत पर होती है, और उसी के सबसे ऊपरी भाग से एक झरना गिरता है जो एक प्राकृतिक अनुभव करवाता है, हमें लिफ्ट के द्वारा ऊपर ले जाया जाता है, तथा वहां उतरते हुए हम सैकड़ों प्रकार के पौधों और बेलाओं को देखते हैं। यह पूरा अनुभव रोमांचित करने वाला है। यहाँ भी घूमने के आपको 1 घंटे का समय लगता है, इसके बाद का जो रोमांच था उसका हमें भी अंदाज़ा नहीं था।

क्लाउड फॉरेस्ट घूमने के बाद जब हम बाहर निकलते हैं तो हमें पेड़ों की तरह बनी हुई बड़ी बड़ी कलाकृतियाँ मिलती हैं जिनके द्वारा लाइट शो का आयोजन प्रतिदिन शाम को 7:45 पर किया जाता है, वहाँ उस प्रकार की 9 या 10 आकृतियाँ हैं, हमने उनमे 5 जो मध्य में बने हुए हैं उन पर लाइट शो का आयोजन किया गया था, वहां बहुत बड़ा मैदान है जिसमें खड़े होकर लोग उस लाइट शो का आनंद लेते हैं इसके अलावा टिकट लेकर हम वहाँ बने हुए ब्रिज पर जाकर भी शो देख सकते हैं जो कि उन पेड़ की आकृतियों की ऊंचाई से लगभग आधी ऊंचाई पर है।

इस शो में विभिन्न देशों के गाने की धुन से तालमेल बनाकर लाइट को अनेक रूपों में चलाया जाता है जो बहुत ही अद्भुत दिखाई देता है। कल्पना कीजिये की आप एक जगह खड़े हों और आपके चरों ओर पेड़ लगे हों जो विभिन्न संगीत की धुनों पर करताल मिला कर जगमगा रहे हों, वाकई अद्भुत है।

सबसे ज्यादा रोमांचित करने वाला पल भी बीच में आया जब एक भारतीय गाना वहां बजा “चल छइयां – छइयां ” 😀 वो ऐसा पल था, जहाँ हम और वहाँ मौजूद हर भारतीय लाइट शो को देखना छोड़ झूमने और नाचने में लग गया और हमें देखते हुए अन्य देश के नागरिक भी हमारे साथ नाच उठे। वाकई अलग ही बात है भारतीय संगीत की उस गाने से पहले शो बिलकुल शांतिपूर्ण देखा जा रहा था और यह गीत चलने के बाद अलग ही जोश भर गया। 🙂

इस शो के बाद हम डिनर के लिए गए और फिर वहाँ से होटल चले गए, वहाँ हमारा प्लान बना की आज हमें रिवर साइड, क्लार्क की (Clarke Quey) चलना चाहिए, और हम वहाँ चल दिए रिवर साइड हमारे होटल से सिर्फ 1 किलोमीटर की दूरी पर था, हम पैदल दस से पंद्रह मिनट में वहां पहुंच गए। वहाँ अंदर की तरफ जाते ही नदी के किनारे काफी ऊँचा Rope swing (रस्सी वाला झूला) लगा हुआ था जो काफी ऊँचा था, लगभग 80 फ़ीट ऊँचा, मुझे ऊँचे झूले से डरररर लगता है इसलिए मैं उसमे नहीं झूला लेकिन अन्य लोगों को उसमे झूलते देखा, रोंगटे खड़े करने वाला दृश्य था मेरे लिए 😀

फिर हम वहां से आगे बढे जहाँ से पब और रेस्त्रां की शुरुआत होती है, कुछ पब्स के बाहर ही सिंगर्स गाना गा रहे थे और लोगों की बाहर ही महफ़िल जमी हुई थी, महफ़िल से मेरा तात्पर्य आप समझ ही गए होंगे 😀 , वैसे वहाँ बेवड़े टाइप का माहौल नहीं देखने मिलता, शान्ति भरा संगीतमय माहौल था। लगभग एक घंटे हमने उस पूरे क्षेत्र का भ्रमण किया, कुछ समय हमने नदी किनारे सुकून भरी हवाओं के बीच आसपास के नज़ारों का भी लुत्फ़ उठाया। वहाँ से रात्रि में जगमगाता हुई मरीना बे सेंड्स होटल भी काफी आकर्षक दिखाई दे रहा था।

अगले दिन हमारा पूरा दिन यूनिवर्सल स्टूडियोज में बीतने वाला था। इसके लिए हमारे अंदर पहले से काफी उत्सुकता थी, यहाँ काफी तेज गति वाले रोलर कोस्टर, विभिन्न प्रकार की राइड्स और 3D शो हैं, साथ ही एक वाटर शो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *