+91-9893712371

Home » Singapore Tour » एक कदम सिंगापुर की ओर – पहला दिन

एक कदम सिंगापुर की ओर – पहला दिन

जैसा की आपने पढ़ा की क्या मेरा उद्देश्य है इस लेख को लिखने का, यदि नहीं पढ़ा है तो यहाँ पढ़ सकते हैं। उद्देश्य 

तो मैं सबसे पहले दिन पर आता हूँ जब मैं सिंगापुर पहुँचा। हमारी फ्लाइट सुबह लगभग 9 बजे पहुँची, फ्लाइट हैदराबाद से रात्रि 2 बजे थी और सफर 4 घंटे 30 मिनट का था, परन्तु भारतीय समय और सिंगापुर के समय में 2 घंटे 30 मिनट का अंतर है, इसलिए वहाँ तो 9 बज चुके थे पर हमारा शरीर उस घडी के साथ नहीं चल रहा था। पर इतना अंतर ज्यादा मायने नहीं रखता।

जिस तरह भारत में हमे किसी भी होटल या रिसोर्ट बुक करने पर दिन के 12 बजे एंट्री मिलती है उसी प्रकार कई देशों में यह समय दिन में 3 बजे का है, तो हुआ ऐसा की हमें रिसीव करने हमारी गाइड जैकी एयरपोर्ट आईं, लगभग 11 बजे हम एयरपोर्ट से निकले। एयरपोर्ट से निकलकर हमने पहली बार सिंगापुर की खूबसूरती को बस में से देखा, अत्यंत साफ़ सुथरी सड़कें, सड़कों के दोनों तरफ हरियाली, ऊँची इमारतें, सिंगापुर की इस पहली झलक ने ही हमारा मन मोह लिया।

Hotel Peninsula Excelsior - Singapore
Hotel Peninsula Excelsior – Singapore

हम अपने होटल पेनिनसुला एक्सेल्सियर पहुंचे जो एयरपोर्ट से लगभग आधे घंटे की दूरी पर है, वहां हमने अपना सामान जमा किया और उसके बाद हम लंच के लिए चले गए। सिंगापुर में भारतीय रेस्टॉरेंट की कमी नहीं है, वहां एक क्षेत्र जिसे इंडियन स्ट्रीट या लिटिल इंडिया भी कहा जाता है। वहां कई सारे इंडियन रेस्टोरेंट हैं जहाँ भारतीय व्यंजन आसानी से उपलब्ध है।

हमने एक भारतीय रेस्टॉरेंट में लंच किया और वापस लगभग 1 बजकर 30 मिनट पर अपने होटल आ गए, हम लोग थके हुए थे और अभी हमे 3 बजे तक इंतज़ार करना था हम होटल की लॉबी में बैठ गए जो बहुत ही सुन्दर थी और एक तरफ उसमे स्विमिंग पूल बना हुआ था, जो हम लॉबी में कांच की दीवार की दूसरी तरफ देख सकते थे। 3 बजे हमे अपने रूम की चाबी मिली जो की एक इलेक्ट्रोमैग्नेटिक कार्ड था, जिसकी सहायता से हम लिफ्ट का उपयोग कर सकते थे और हमारे रूम की चाबी की तरह भी। कार्ड मिलने के बाद हमारे साथ एक बहुत हास्यास्पद वाकया हुआ।

हम अपने कमरे में जाने के लिए लिफ्ट में सवार हुए, हमे उस कार्ड का उपयोग करने का सही तरीका नहीं पता था, और हमारे साथ अलग अलग मंजिल पर जाने वाले लोग थे जो हमारे साथ ही थे पर किसी को भी कार्ड का सही उपयोग नहीं पता था, उस लिफ्ट में यह सिक्योरिटी है की आप बिना कार्ड के सिर्फ लॉबी जो की चौथी मंज़िल पर थी वहां या फिर ग्राउंड फ्लोर पर जा सकते हैं, अन्य किसी मंजिल पर जाने की लिए कार्ड होना आवश्यक है। तो हम कार्ड का उपयोग नहीं कर रहे थे और सिर्फ मंज़िल के बटन दबा रहे थे जो की लिफ्ट एक्सेप्ट नहीं कर रही थी लेकिन लिफ्ट के गेट बंद होने के बाद जैसे ही किसी अन्य मंज़िल से कोई लिफ्ट का बटन दबाता था हमारी लिफ्ट उस मंज़िल की तरफ चल पड़ती थी 😀 😀 लगभग 3 – 4 बार हम ऊपर निचे हुए वो भी कभी 10 मंज़िल कभी ७ मंज़िल,और हमारे साथ मेरी एक महिला मित्र थी उसने कहा मुझे उतार दो मुझे नहीं जाना इस लिफ्ट में 😀 क्योकि लिफ्ट की स्पीड बहुत तेज़ थी और हम सब परेशान हो रहे थे पर जैसे तैसे हम अपनी मंज़िल पर पहुंच गए और हमने फिर उस कार्ड को उपयोग करने का तरीका पूछ लिया। 🙂

हमारा कमरा होटल की 14 वीं मंजिल पर था, जहाँ से चौथी मंज़िल पर बने स्विमिंग पूल का नज़ारा दिखता था, हमे शाम को साढ़े पांच बजे हमारी पहली साइट विजिट नाईट सफारी पर निकलना था इसलिए हमने कुछ रेस्ट किया और फिर हम तैयार हो गए।

Night Safari – Singapore

शाम साढ़े पांच बजे जैकी हमें रिसीव करने हमारे होटल पहुंच गईं, हम बस में सवार हुए और फिर चल दिए नाईट सफारी के अपने सफर पर। सिंगापुर की प्रत्येक सड़क बहुत ही सुन्दर है, हम बस की खिड़की से बहार बस खूबसूरती को ही निहारते रहे। लगभग 6 बजे हम नाईट सफारी पहुँच गए, वहाँ पहुँचकर हमें हमारे टिकट दिए गए और हम एक लाइन बनाकर अंदर चल दिए।

नाईट सफारी में एक खुले जंगल जैसे माहौल में वन्य प्राणियों के बीच हमे 3 डब्बे की रेलनुमा बस से भ्रमण करवाया जाता है, वहाँ शेर, चीता, लोमड़ी, सियार, गैंडा, हाथी, दरियाई घोड़ा, हिरण और अन्य कई वन्य प्राणी थे, कुछ वन्य प्राणियों को हमने वास्तविक रूप से पहली बार देखा था जैसे गैंडा और दरियाई घोड़ा जिनका आकार हमारी सोच से कहीं ज्यादा बड़ा था, उन्हें देखकर हम अत्यंत रोमांचित हुए।

भ्रमण पूर्ण होने के बाद वहाँ एक एनिमल शो आयोजित किया जाता है जहाँ, विभिन्न प्रकार के प्रशिक्षित प्राणियों के साथ करतब दिखाए जाते हैं, वहाँ हमें सफ़ेद और काले उल्लू, नेवले, फिश कैट , और अन्य कई प्राणियों के करतब देखने को मिले साथ ही वहाँ काफी बड़े सफ़ेद अज़गर भी दिखाया गया जिसे 4 लोग जिनमे 2 वहीं स्टाफ के लोग और 2 जनता के बीच से बुलाये गए लोग अंदर से अपने हाथ में उठाकर लेकर आये, और हमने तभी देखा की उनमें एक लड़की जो जनता के बीच से उठकर गई थीं, वो कोई और नहीं मिस वर्ल्ड मानुषी छिल्लर थीं, उन्होंने अपने हाथ में सफ़ेद अजगर उठाया हुआ था। वह हमारे साथ ही कुछ आगे बैठी हुई थीं, वह पल भी हमें बहुत रोमांचित करने वाला था।

तो पहले दिन का सफर यहीं तक था, शो ख़त्म होने के बाद हम डिनर के लिए गए और उसके बाद अपने होटल वापस।

हमारा होटल रिवर साइड Clarke Quay के काफी नज़दीक था हम पैदल वहाँ घूमने के लिए रात में जा सकते थे, नदी का किनारा, पब्स और बार रेस्टॉरेंट्स आदि, म्यूजिकल माहौल कुछ रोमांच पैदा करने वाले झूले वहां पर उपलब्ध हैं, एक अच्छा समय व्यतीत करने के लिए बहुत अच्छी जगह है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *