+91-9893712371

Home » India's Need » Internet, is useful or useless? इन्टरनेट, क्या सभी के लिए उपयोगी?

Internet, is useful or useless? इन्टरनेट, क्या सभी के लिए उपयोगी?

क्या सभी लोगो को मोबाइल में इन्टरनेट का पैक डलवाना आवश्यक है?

आजकल अधिकतर स्मार्टफोन चलाने वाले लोग अपने मोबाइल में इन्टरनेट का उपयोग करने लगे हैं. भारत में आजकल केशलेस ट्रांसक्शन पर ज़ोर दिया जा रहा है जिसका मतलब की व्यक्ति अपने बैंक अकाउंट से चेक द्वारा, डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड के द्वारा, या मोबाइल में ऑनलाइन पेमेंट करने वाली किसी एप्लीकेशन के द्वारा किसी वस्तु या सेवा के लिए भुगतान कर सकता है.

कई लोग मोबाइल पर सोशल मीडिया पर सक्रीय हैं, उनके लिए अपने मोबाइल पर इन्टरनेट डाटा का पैक डलवाना अनिवार्य हो गया है. लेकिन कई ऐसे भी लोग हैं जिन्हें सोशल मीडिया से कोई लेना देना नहीं है इसलिए वो लोग अपने मोबाइल में डाटा पैक को डलवाना फ़िज़ूल खर्च मानते हैं.

अब यदि डिजिटल पेमेंट की बात की जाये तो हम कई तरीको से वस्तुओं और सेवाओं का भुगतान कर सकते हैं जिसमे से यदि मोबाइल के द्वारा भुगतान की बात की जाये तो बैंकों द्वारा उपलब्ध कराई गई एप्लीकेशन के अलावा कई अन्य एप्लीकेशन भी उपलब्ध हैं जिनके द्वारा भुगतान किया जा सकता है. और इनके लिए सबसे ज़रूरी है मोबाइल में इन्टरनेट का उपलब्ध होना.

जहाँ इन्टरनेट डाटा का पैक अलग अलग कंपनी 150 रुपये से 250 रुपये में 1 GB डाटा उपलब्ध कराती हैं ( 1 GB = 1024 MB या 1048576 KB ) जबकि बिना नेट पैक के मोबाइल में इन्टरनेट उपयोग करने का चार्ज 10 पैसे प्रति 10 KB लगता है, मतलब यदि आप बिना नेट पैक के 1 GB डाटा का उपयोग करते हैं तो आपको 10485.76 रुपये का भुगतान करना पड़ेगा.

यदि कोई व्यक्ति ऑनलाइन भुगतान करने के लिए किसी एप्लीकेशन का उपयोग करता है तो उसका कम से कम 300 KB से 1000 KB का डाटा खर्च होता है, अब अगर किसी व्यक्ति के मोबाइल में नेट पैक नहीं है तो उसे 3 रूपये से लेकर 10 रुपये तक का भुगतान करना पड़ेगा एवं ये और अधिक भी हो सकता है.

अब यहाँ आवश्यक है की या तो सरकार बिना नेट पैक के इन्टरनेट उपयोग करने पर लगने वाले चार्ज को कम करवाए या फिर पेमेंट करने वाली सभी एप्लीकेशन को इन्टरनेट डाटा के उपयोग की छूट दी जाये.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *